समर्थक

रविवार, 10 अक्तूबर 2010

poem-meri rachna

लिखूं 'कविता' नयी- नयी मैं;
बड़ी मुझे अभिलाषा है;
लेखन की 'पूजा' मैं करूँ;
बस कर्म मुझे ये भाता है.
*****************************
'प्रीति' प्रेम और अच्छे भाव से
कुछ भी जो भी रच दूंगी;
अपनी 'मनीषा' की 'छवि' से
सबके मन को रंग दूंगी.
*****************************
कोई 'ऋतु हो ; कोई समय हो;
बोले कोकिल या 'सारिका'
मेरी कविता-दीप'शिखा' से
'दीप्ति' हो यहाँ-वहां.
मैंने इस कविता में अपने साथ padhi अपनी कई सहेलियों का नाम जोड़ा है. यह भी एक तरीका है अपनी यादों को संजोकर रखने का. 

1 टिप्पणी:

Hindi Sahitya ने कहा…

I have seen your blog.Your approach is very sensitive. I appreciate this. I also want to say thanks for posting comments on my blog aadhunikhindisahitya.blogspot.com.