समर्थक

सोमवार, 22 मई 2017



देर न हो जाये घाटी आज जाग जा ,
मेरी वफ़ा का दे सिला अलगाव भूल जा !
हिंदुस्तान जैसा आशिक न मिलेगा ,
गुमराह न हो सैय्याद की चाल जान जा !
.......................

जो हाथ थाम मेरा साथ चलेगी ,
मंजिल तरक्की की तुझे रोज़ मिलेगी ,
खामोश न रह मेरे संग चीख कर दिखा !
मेरी वफ़ा का दे सिला अलगाव भूल जा !
...........................

नोंचने की है पडोसी की तो आदत ,
अस्मत बचाई तेरी देकर के शहादत ,
नादान न बन आ मेरी हिफाज़त में तू आ जा !
मेरी वफ़ा का दे सिला अलगाव भूल जा !
.................................

करना है फैसला तुझे रख नेक इरादा  ,
मेरी अज़ीज़ तू रही है जान से जयादा ,
है इश्क़ दूध मेरा केसर सी तू घुल जा !
मेरी वफ़ा का दे सिला अलगाव भूल जा !

शिखा कौशिक 'नूतन ''

रविवार, 27 मार्च 2016

मैं ऐसे मित्र नहीं चाहता !

Image result for free images of flowers with horns

देख दुःखों में डूबा मुझको ;
जिनके उर आनंद मनें ,
किन्तु मेरे रह समीप ;
मेरे जो हमदर्द बनें ,
ढोंग मित्रता का किंचिंत ऐसा न मुझको भाता !
मैं ऐसे मित्र नहीं चाहता !
 सुन्दर -मँहगे उपहारों से ;
भर दें जो झोली मेरी ,,
पर संकट के क्षण में जो ;
आने में करते देरी ,
तुम्हीं बताओ कैसे रखूँ उनसे मैं नेह का नाता !
मैं ऐसे मित्र नहीं चाहता !
नहीं तड़पता गर दिल उनका ;
जब आँख मेरी नम होती है ,
देख तरक्की मेरी उनको ;
यदि जलन सी होती है ,
कंटक युक्त हार फूल का मुझको लाकर पहनाता !
मैं ऐसे मित्र नहीं चाहता !


शिखा कौशिक 'नूतन '

बुधवार, 25 फ़रवरी 2015

''मुबारकबाद देते हैं !''

Image result for free images of flower with knife
''मुबारकबाद देते हैं !''


हमारी जीत को जो हार बना मात देते हैं !
वही हंसकर गले मिलकर मुबारकबाद देते हैं !
.................................................................
बड़े हमदर्द बनकर दे रहे गम में जो तसल्ली ,
वही तो साज़िशें रच क़त्ल को अंजाम देते हैं !
................................................................
मेरी बदनामियों पर हो खफा दुनिया से भिड़ जाते ,
मुझे बदनाम कर ये इस हुनर से काम लेते हैं !
....................................................................
नहीं हममें अक़्ल जो जान लें वे दोस्त या दुश्मन ,
मगर हम बेअक़्ल  शातिर सभी पहचान लेते हैं !
.................................................................
बड़े मासूम हैं ; नादान हैं ; क्या कहें 'नूतन '
जो हमको क़त्ल कर कातिल का हमें नाम देते हैं !


शिखा कौशिक 'नूतन'

रविवार, 18 जनवरी 2015

*सुना कुत्तों की दावत है !*


Stormy Clouds Weather Stock Photo - 19770770
कहर बरसा  मेरे घर तो वो बोले सब सलामत है ,
गई छींटें जो उनकें घर तो बोले अब क़यामत है !
..........................................................................
मेरे बच्चों ने पी पानी गुज़ारी रात सारी है ,
बराबर के बड़े घर में सुना कुत्तों की दावत है !
.................................................................
बिना गाली के जिनकी गुफ्तगूं होती नहीं पूरी ,
हमें इलज़ाम देकर कह रहे हम बे-लियाकत हैं !
..............................................................
क़त्ल करते हैं और लाशों पे जो करते सियासत हैं ,
नहीं मालूम उनको एक अल्लाह की अदालत है !
................................................................
हमारे हाथ में है जो कलम वो सच ही लिखेगी ,
कलम के कातिलों से इस तरह करनी बगावत है !


शिखा कौशिक 'नूतन'

शनिवार, 10 जनवरी 2015

'अभी हार मत मानो !'


Image result for free images of victory sign
असफलता से मिलेगी ;
राह सफलता की ,
है जरूरत नर नहीं ;
किंचित विकलता की ,
खुद में छिपी जो शक्ति है ,
उसको तो पहचानो !
अभी हार मत मानो !
............................
लूट गया सर्वस्व ;
अश्रु मत बहाओ तुम ,
होकर सचेत फिर उठो ;
न यूँ रहो गुमसुम ,
बिगड़े हुए काम को
ऐसे संवारो   !
अभी हार मत मानो !
.........................................
गिर गए तो क्या हुआ ;
घुटने न टेको ,
असफल होकर पुनः ;
प्रयास कर देखो ,
जय मिलेगी एक दिन ;
सत्य को जानो !
अभी हार मत मानो !

शिखा कौशिक 'नूतन'