समर्थक

शुक्रवार, 24 दिसंबर 2010

एक माँ की अभिलाषा

ओ मेरे मासूम बेटे ! आग नफरत की बुझाना ,
गीत जो गाये अमन के ;उसके सुर में सुर मिलाना . 
*****************************************************
आपसी सदभाव के पौधे  की क्यारी सीचना ,
बैर की फैली हुई घास जड़ से खीचना ;
तू गिराना दुश्मनी की हर खड़ी दीवार को ;
खुद को ऊँचा मानकर हरगिज कभी न रीझना ;
धर्म  जो पूछे कोई  ,इंसान हूँ इतना बताना .
*****************************************************
धर्म-जाति-आग में घर बहुत हैं जल चुके ,
गोद है उजड़  चुकी ,बहुत सुहाग लुट चुके,
लूट मार क़त्ल के इस दौर को तू रोकना,
आपसी विद्वेष के खंजरों को तोडना ,
है अगर तू खून मेरा, मेरा कहा करके दिखाना,
ओ!मेरे मासूम बेटे!आग नफरत की बुझाना.

2 टिप्‍पणियां:

नरेश सिह राठौड़ ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव वाली कविता है | धन्यवाद |

Anita ने कहा…

आज ऐसी ही माँओं की देश को जरूरत है ! सुंदर कविता !