समर्थक

मंगलवार, 15 जनवरी 2013

भारतीय थल सेना दिवस की शुभकामनायें


भारत माता की जय !







छिप कर क्यों आता है कायर ?
आगे से आकर दिखा !
हम हैं वतन के प्रहरी 
आँखें मिलकर दिखा !
तेरी हर साजिश को हम नाकाम कर देंगे 
ओ दुश्मन तेरा काम हम तमाम कर देंगे !



पीछे से करता क्यों वार है ?
आगे से आकर दिखा !
है बहादुर तू अगर 
मुंह न ऐसे छिपा ;
तेरी हर साजिश को हम नाकाम कर देंगे 
ओ दुश्मन तेरा क़त्ल खुलेआम कर देंगे !
तेरी हर ...........

छिपकर चलाता क्यों गोली ?
आगे से आकर चला ;
हम हैं खड़े सीना ताने 
हमको मिटाकर दिखा 
तेरी हर साजिश को हम नाकाम कर देंगे 
हंसकर अपने प्राणों का बलिदान कर देंगे !
छिपकर क्यों आता है ...........
                                               जय हिंद !
                                    शिखा कौशिक 
                              nutan

4 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

बहुत ही ओज पूर्ण रचना बधाई स्वीकार करें .....

शालिनी कौशिक ने कहा…

बहुत शानदार देशभक्ति के भावों से भरी प्रस्तुति मन करता है इन दुश्मनों को धूल चटा ही आऊँ ”ऐसी पढ़ी लिखी से तो लड़कियां अनपढ़ ही अच्छी .”
आप भी जाने @ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

औजरस से भरपूर काव्य रचना ,सेना दिवस पर भारतीय सेना के वीर जवानो को नमन !!

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

प्रभावशाली ,
जारी रहें।

शुभकामना !!!

आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।