समर्थक

सोमवार, 7 जनवरी 2013

बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते



Delhi gang-rape
बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा
स्त्री को जिम्मेदार ठहराना  और 
पुरुष का अपने ही कुकृत्य पर
ठहाका लगा !

बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा
धर्म गुरु  द्वारा
जनता को भटकाना
और नेताओं का
राजनीति चमकाना .



बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा 

निकम्मे प्रशासन का 
बहाने बनना और 
इन्सान का वहशी बन जाना  


बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा
पुत्री  पर मर्यादा के
नाम पर प्रतिबन्ध लगाना
और पुत्रों का  संस्कारों से
परिचय न करवाना .
                              
शिखा कौशिक 'नूतन''

4 टिप्‍पणियां:

madhu singh ने कहा…

jb talak betion ke pavon me mardani soch ki bediyan padi rahengi tb talak bahut kuch badlav ki uumid karna mushkil hai.........New Posts....mujhe ji to lijiye,betiyan,kafan

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

बलात्कार होने से रोकने के लिए पहले यह जानना पड़ेगा कि दुनिया में सबसे पहले किसने बलात्कार की गंदी परंपरा शुरू की ?
और
भारत में कब से बलात्कार होते आ रहे हैं ?
See
http://blogkikhabren.blogspot.in/2013/01/balatkar.html

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

शिखा जी बहुत सुंदर लिखा है और एक सत्य्भाव समाज के लिए जरूरी

Er. Shilpa Mehta : शिल्पा मेहता ने कहा…

absolutely correct ...

rukenge tab jab stree aur purush dono ko "maanav" maannaa seekh jaayegi maanavtaa

- ek ko ooncha aur ek ko neechaa maanna band karegi sampoorn maanavtaa

- jab ham maanav ho jaayenge ....