समर्थक

मंगलवार, 3 अप्रैल 2012

हे भोले ! तेरे हम भक्त हैं ![भक्ति....]


हे भोले ! तेरे हम भक्त हैं ![भक्ति....]
Shivling Amarnath


अल्हड़  हैं ..अलमस्त हैं ;
हे भोले ! तेरे हम भक्त हैं ;
पर भव-सागर में फंसे हुए हैं ;
माया बंधन से कसे हुए हैं ;
रक्षा करो हे नाथ बाबा अलख निरंजन !
बोलो  बम बम बम...बाबा अलखनिरंजन !


धर्म का लोप हुआ ...त्रस्त है दुनिया सारी;
घटा पुण्य का मान ...पाप का पलड़ा भारी ;
अपने डमरू की डम डम से हर लो अघ का तम ;
बाबा अलख निरंजन ! बोलो बम बम बम !


धोकर सभी के पाप हुई गंगा मैली ;
संस्कार की बिगड़ गयी सब भाषा शैली ;
हर लो संकट आकर अब  मेरे भगवन !
बाबा अलख निरंजन ! बोलो बम बम बम !




सारा जग द्वेष की आग में धू धू जलता 
तुम्ही  करो उद्धार जगत के कर्ता -धर्ता  ;
तुम तो हो उद्धारक और हम हैं अधमाधम ;
बाबा अलख निरंजन !बोलो बम बम बम 
                                                     जय गौरी शंकर की !
                                                      जय भोलेनाथ की !


                             शिखा कौशिक 

3 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

बहुत सुंदर भोले नाथ की रचना

शालिनी कौशिक ने कहा…

nice presentation..फांसी और वैधानिक स्थिति

Pallavi ने कहा…

भक्ति रस से परीपूर्ण सार्थक रचना...