समर्थक

बुधवार, 4 मई 2011

खट्टी -मीठी यादें !

खट्टी -मीठी यादें !

टूटे  फूटे  वादे    ,कभी     ताने  और     फरियादें     ,
इनसे   ही   बन   जाती   हैं   खट्टी मीठी यादें .

फूलों   के   जैसे   हँसना   ,आँखों   से   मोती   झरना   ,
मरते   मरते   जीना   ,कभी    जीते   जीते   मरना   ,
ऐसे   जुड़ते   जाते   किस्से   ये   सीधे   सादे   .
इनसे   ही   बन   जाती   हैं   खट्टी मीठी यादें .
***********************************
गले लगाकर मिलना ,लड़ना और झगड़ना ,
ममता की बरसातें और कभी क्रोध में तपना ,
फिर भी जुड़ते जाते टूटे रिश्तों के धागे .
इनसे ही बन जाती हैं खट्टी मीठी यादें .
*********************************
कभी जेठ की गर्मी ,सावन की कभी फुहारें ,
कभी अमावस की रजनी ,कभी पूनम के उजियारे ,
कुदरत रोज बजाती नए सुरों में बाजें .
इनसे ही बन  जाती हैं खट्टी मीठी यादें .
*********************************
मेरी आवाज में -

3 टिप्‍पणियां:

Anita ने कहा…

वाह ! खट्टी मीठी यादें कितनी खूबसूरती से एक गीत में बदल गयीं !

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA ने कहा…

very very special feel good

sonam jain ने कहा…

life olready as a poem