समर्थक

गुरुवार, 1 मार्च 2012

जय श्री राधेकृष्ण !




नन्हा  सा  कान्हा  चले  है  ठुमककर ;
माता  जसोदा  देंखें हुलसकर  ;


चलते  हुए  जब  जरा   डगमगाए   ;
माँ  का  हिया   बड़ा  घबराये  ;
बाँहों  में  भर  लेती  हैं  दौड़कर  !


पैय्या  के  घुंघरू जो छम छम छमकते ;
किलकारी मार  कान्हा कितने मचलते ;
लेती बलैय्याँ   माँ है झूमकर ! 



आँगन में आई एक चिड़िया गौरैय्या  ;
उसको पकड़ने को दौड़ें  कहैय्या ;
फुर्र से उडी ..देंखें हैं चौककर !

                                                           
                                                    नटखट कन्हैय्या की मोहक अदाएं ;
                                                   गोकुल के नर-नारी  ....सबको  लुभाएँ ;
                                                माँ-बाबा गोद लेते भाल चूमकर ! 
                                           नन्हा सा कान्हा चले है ठुमककर !
[sabhi photos google से sabhar ]
                                                           shikha kaushik   

5 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

bhakti ras me sarabor karti sundar chitron se saji aur sumadhur aawaj me laybaddh bahut hi sarthak prastuti.aabhar shikha ji.

Anuj Jaimini ने कहा…

जय श्रीकृष्णा

Anuj Jaimini ने कहा…

जय श्रीकृष्णा

Anuj Jaimini ने कहा…

जय श्री कृष्णा

Anuj Jaimini ने कहा…

जय श्री कृष्णा