समर्थक

शनिवार, 10 मार्च 2012

ये सोच के सिर झुक जाता है




दंगों  की आड़  में  औरत  की  अस्मत  को  लूटा  जाता है ;
हम कुछ भी न कर पाते हैं ये सोच के सिर झुक जाता है !


जब  सच्चाई  को  ट्रेक्टर  से  कुचला  जाता  है 
हम  कुछ  भी  न  कर  पाते  हैं   ये  सोच  के  सिर   झुक  जाता  है !

 
 
सोती जनता को रातों   में लाठी से पीटा   जाता है ;
                                       हम कुछ भी न कर पाते हैं ये सोच के सिर झुक जाता है !
                                                                  
                                                            


                                         जनता  भूखी -नंगी  बैठी और  पार्क बनाया  जाता है ;
                                              हम कुछ भी न कर पाते हैं ये सोच के सिर झुक जाता है !

GOOGLE से साभार 
                                      पैसे देकर अख़बारों  में झूठा सच्चा  छप जाता है ;
                                      हम कुछ भी न कर पाते हैं ये सोच के सिर झुक जाता है !
                                                                        
                                                     शिखा  कौशिक 

3 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत ही बढ़िया।

सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सटीक लिखा है ...

dinesh gautam ने कहा…

विचारोत्तेजक रचना। हमारे समय की विसंगतियों को सामने रखती है।