समर्थक

शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

मेरा वतन मेरा वतन











मेरा    वतन    मेरा    वतन    
कोयल  की  मीठी     बोली सा   
ये   सतरंगी    रंगोली   सा   
नन्हें    -मुन्नों  की  टोली  सा  
दीवाली  सा  और  होली  सा  
मेरा  वतन .....................

ये  निर्मल  है  ..अति  पावन   है
सुन्दरतम  है  ..मनभावन  है  
ये   अद्भुत  है  ये  है  अनुपम  
मेरा  वतन  ..........................

ये  गहन   निशा  में  है  सविता    
ये  चन्द्रकिरण   की  शीतलता  
सूखी  भूमि   पर   है  सरिता   
और  कविराज   की  है  कविता   
मेरा  वतन  ....................


अभिराम  वत्स  ये  धरती  का  
ये  प्रिय   सखा  है  सृष्टि  का  
ये  हिम  शुभ्र  सा  है  उज्जवल  
ये  कलावंत का  है  कौशल  
मेरा  वतन  ......................

                                      जय  हिंद  !जय  भारत  !

                                                     शिखा  कौशिक  
                                                  [विख्यात ] 





3 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

जय हिंद, जय भारत!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत बढ़िया ....

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत ही सुंदर कविता ...जय हिंद