समर्थक

शुक्रवार, 2 दिसंबर 2011

रफ़्तार से चलेंगें -चाहें मारेंगें [speed thrills but kills ]


[bikewalls .com  से साभार ]


ये गीत है उन सभी के लिए जो अपने वाहन को  इतना तेज दौड़ते हैं कि न तो उन्हें अपनी जान की चिंता है और न ही किसी अन्य की .स्पोर्ट्स बाइक रखने वाले किशोर व् युवा तो मानो आसमान में उड़ जाना चाहते हैं -ये अलग बात है कि कभी वे खुद दुर्घटना का शिकार होते हैं तो कभी किसी अन्य की जान ले लेते हैं .किसी भी अन्य कारण की तुलना में  आज सबसे ज्यादा जानें सड़क दुर्घटनाओं में जा रही हैं .इसलिए अपने को नियंत्रित  कीजिये  क्योंकि  घर पर आपका कोई इंतजार करता होता है .हीरो बनने के चक्कर में न तो अपनी जान जोखिम में डालिए और न ही किसी और की जान लीजिये  .गीत में हीरों बनने वाले व्यक्ति की भावनाओं को ही प्रकट करने का प्रयास किया है -कहीं आप भी तो ऐसा नहीं सोचते -


रफ़्तार  से  चलेंगें -चाहें मारेंगें [speed thrills but kills ]




रोके से न रुकेंगें 
जो चाहेंगें करेंगें ;
अपनी स्पोर्ट्स बाइक 
लगती है वैरी नाईस;
इसपे चलेंगें रफ़्तार से 
सारी  दुनिया  जाये  भाड़  में .


अपनी रगों में नया खून है 
तेजी का हमपर जूनून है ;
धीरे चलना है मुश्किल 
चलते हैं ऐसे तो बुझदिल ;
हम तो उड़ेंगे बड़ी शान से 
दौड़ेंगें बन तूफ़ान से 
अपनी स्पोर्ट्स बाइक .........
सारी दुनिया .......


हीरो के जैसा स्टाइल है 
होठों पे रहती स्माइल है ;
हमको फ़िक्र न किसी बात की 
ना खबर दिन रात की ;
अपनी स्पोर्ट्स ......
कुछ तो करके रहेंगें 
मारेंगे या मरेंगें 
सारी दुनिया जाये भाड़ में .
                                 शिखा कौशिक 
                             [विख्यात ]

4 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में क्यों नहीं समझते की जीवन अनमोल है.....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

वाह!
बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

दिनेश पारीक ने कहा…

आप की रचना बड़ी अच्छी लगी और दिल को छु गई
इतनी सुन्दर रचनाये मैं बड़ी देर से आया हु आपका ब्लॉग पे पहली बार आया हु तो अफ़सोस भी होता है की आपका ब्लॉग पहले क्यों नहीं मिला मुझे बस असे ही लिखते रहिये आपको बहुत बहुत शुभकामनाये
आप से निवेदन है की आप मेरे ब्लॉग का भी हिस्सा बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
धन्यवाद्
दिनेश पारीक
http://dineshpareek19.blogspot.com/
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

दिनेश पारीक ने कहा…

आप की रचना बड़ी अच्छी लगी और दिल को छु गई
इतनी सुन्दर रचनाये मैं बड़ी देर से आया हु आपका ब्लॉग पे पहली बार आया हु तो अफ़सोस भी होता है की आपका ब्लॉग पहले क्यों नहीं मिला मुझे बस असे ही लिखते रहिये आपको बहुत बहुत शुभकामनाये
आप से निवेदन है की आप मेरे ब्लॉग का भी हिस्सा बने और अपने विचारो से अवगत करवाए
धन्यवाद्
दिनेश पारीक
http://dineshpareek19.blogspot.com/
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/