समर्थक

मंगलवार, 2 अगस्त 2011

स्त्री कर रही है ऐलान !

स्त्री कर रही है ऐलान !

हजारों वर्षों की
यात्रा करके आज
पहुंची है स्त्री यह
कहने की स्थिति में
''मैं भी एक अलग व्यक्तित्व हूँ ''
मेरा भी समाज में अलग अस्तित्व है .

मनु ने पिता ,पति
पुत्र की दीवारों में
किया कैद स्त्री को ,
पुत्री,पत्नी ,माता और
बहन के रूप में सर्वस्व
न्यौछावर करती हुई
अबला बना दी गयी
''नर की शक्ति नारी ''

केवल देह मान  ली गयी
और पुरुष ने घोषणा की
''नारी मेरी संपत्ति है ''
कभी मर्यादा व्  लोकरंजन के नाम पर
वन-वन भटकाई गयी ,
कभी जुए में दाव पर लगा दी गयी
नारी की अस्मिता ;
फिर कैसे विश्वास करें
की भारतीय संस्कृति में
सम्मानित स्थान  दिया गया
है स्त्री को ?

ये ठीक है कि
आज भी नारी देह का  
शोषण जारी है ;
आज भी नर नारी को मानता है
अपनी दासी
लेकिन खुल चुकी हैं
कुछ खिड़कियाँ
पितृ- सत्तात्मकता   की
मजबूत दीवारों में ,
जहाँ से झांक कर स्त्री कर रही
है ऐलान
''मैं भी एक अलग व्यक्तित्व हूँ ''
मेरा भी समाज में पृथक
अस्तित्व है .
                          शिखा कौशिक


6 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जहाँ से झांक कर स्त्री कर रही
है ऐलान
''मैं भी एक अलग व्यक्तित्व हूँ ''
मेरा भी समाज में पृथक
अस्तित्व है .

नारी की आज की घोषणा .. अच्छी लगी ..सार्थक प्रस्तुति

वन्दना ने कहा…

वाह शिखा जी बेहद उम्दा और सशक्त अभिव्यक्ति।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अच्छी रचना है!
नारी का स्वर मुखर है इसमें!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर सशक्त अभिव्यक्ति....

S.N SHUKLA ने कहा…

सुन्दर रचना ,खूबसूरत अभिव्यक्ति , आभार

Anita ने कहा…

हजारों वर्षों की यात्रा करके आज पहुंची है स्त्री यह कहने की स्थिति में ''मैं भी एक अलग व्यक्तित्व हूँ '' मेरा भी समाज में अलग अस्तित्व है .

बिल्कुल सही कहा है... लेकिन गार्गी और सावित्री जैसी नारियां पहले भी हुई हैं.. आज की नारी आगे बढ़ रही है और आने वाला युग इसकी गवाही देगा..सुंदर कविता!