समर्थक

शुक्रवार, 29 जून 2012

जिसमे न हो बड़प्पन वो कैसा बड़ा है !

जिसमे न हो बड़प्पन वो कैसा बड़ा है !

पत्थर ही मारना है तो देख ले पहले;
जो सामने खड़ा है वो शख्स कौन हैं ?

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ;
फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है ?

जिसमे न हो बड़प्पन वो कैसा बड़ा है !
ये रूप है बड़ो का तो बच्चा कौन है ?

हमको तो गिना दी हमारी खताएं सब ;
पर अपनी एक खता भी देखता कौन है ?

लो ख़त्म हुआ आज से सलाम व् दुआ ;
मुश्किल है अब पहचानना कि कौन कौन है ?
शिखा कौशिक




गुरुवार, 28 जून 2012

नाम ''पकिस्तान'' है मगर पाकीज़गी का नाम नहीं !

नाम ''पकिस्तान''  है मगर  पाकीज़गी  का नाम नहीं !



[ my voice]




पाकिस्तान की जेल  में बंद  भारतीय कैदी सरबजीत की रिहाई पर बुधवार शाम से शरू पाकिस्तान के नाटक ने सरबजीत के परिवार के साथ साथ करोड़ों भारतीयों की भावनाओं का भी मखौल उड़ाया है . ह्रदय मे  भर आये   आक्रोश  को  इन  शब्दों में  प्रकट करने का प्रयास किया  है  -

तू  जो  कहता  है  तेरी बात पर यकीन नहीं ;
नाम ''पकिस्तान''  है मगर  पाकीज़गी  का नाम नहीं .

तेरी मक्कारियों  के  ज़ख्म  अभी  ताज़ा  हैं  ;
तेरे जैसा ज़माने में तमाशबीन    नहीं .


तू है खादिम  मगर खुद  को समझता  है खालिक  ;
ख़बीस  देख  तेरे पैरों  तले   ज़मीन   नहीं .

ख़निल  तेरी जगह  दोजख़  में बड़ी पक्की है ;
वैसे  दोजख़   भी  इससे  बड़ी तौहीन नहीं .

देखकर   दर्द औरों के बड़ा हँसता   है ;
रीआइ  मौत  पर तेरे होगा  कोई ग़मगीन नहीं .


[ख़निल-सेंधमार  चोर  , खालिक-ईश्वर  ,रिआइ-मक्कार ]

                                  शिखा कौशिक 

सोमवार, 25 जून 2012

पापा तुम सिगरेट क्यों पीते हो ?




पापा  तुम  सिगरेट क्यों पीते  हो ?
LEAVE SMOKING BEFORE YOUR CHILDREN ASK YOU -



कश लेकर  धुँआ छोड़ देते हो 
सांसों  में  हमारी  जहर  घोल  देते हो ;
पापा  तुम  सिगरेट क्यों पीते  हो ?

सिगरेट  से हो जाता  कैंसर  
है  ये  बीमारी  भयंकर  
सेहत  से क्यों अपनी  खिलवाड़  करते  हो ?
पापा  तुम  सिगरेट क्यों पीते  हो ?

मेहनत  से पैसा कमाते हो 
क्यों धुएं  पर उड़ाते   हो ?
समझाने  पर ना  समझते हो .
पापा  तुम  सिगरेट क्यों पीते  हो ?

अब  तो रखो ख्याल 
छोड़ दो  धूम्रपान 
टोकने पर ऐसे क्यों बिगड़ते हो?
पापा  तुम  सिगरेट क्यों पीते  हो ?
                                                       SHIKHA KAUSHIK 

गुरुवार, 7 जून 2012

INDIA GOLD

INDIA GOLD






भारतीय हॉकी पुरुष टीम को लन्दन ओलंपिक के लिए हार्दिक शुभकामनायें !















ना छक्का ना चौका ;
दो हॉकी को मौका ;
सजा लो लबों पर बोल
कर दे गोल ..........कर दे गोल !































shikha kaushik